Follow by Email

मंगलवार, 29 दिसंबर 2009

हाय-तॊबा क्यों ऒर क्यों नहीं

आज सहित्य में इतनी धड़ेबाजी हो चुकी हॆ कि क्या गलत हॆ ऒर क्या ठीक इसका सही सही निर्णय कर पाना कठिन हो गया हॆ । सही लोगों को पुरस्कार मिलता हॆ तब भी जोड़-तोड़ की शंका तो बनी ही रह्ती हॆ । कॆलाश वाजपेयी ऎसा कवि तो नहीं ही हॆ जो इस पुरस्कार के योग्य नहीं हॆ । बल्कि विलम्ब ही हुआ हॆ । पुरस्कारों की राजनीति इतनी गिर चुकी हॆ कि ज्यादातर लेखकों को असमय पुरस्कार मिले हॆ जबकि बहुतों को या तो बहुत देर से मिले हॆं या फिर मिले ही नहीं हॆं ।मॆंने कभी लिखा था कि साहित्य अकादमी को हिन्दी साहित्य के लिए हर वर्ष के लिए कम से कम चार पुरस्कार निर्धारित करने होंगे । तब जाकर कुछ न्याय होगा । यहां तो कल का छोकरा या छोकरी , अधिकतर साहित्येतर कारणों से पुरस्कार प्राप्त कर लेने में सफल होते हॆं जबकि साहित्येतर कारणों से ही कितने ही समकक्ष ऒर वरिष्ठ तक उपेक्षित कर दिए जाते हॆं । मुझे याद आ रहा हॆ कि जब केदार जी को यह पुरस्कार मिला था तो उन्होंने कहा था कि पुरस्कार गिरिजाकुमार माथुर को मिलना चाहिये था । अगली बार मथुर जी को ही मिला था । ऎसा तंत्र फॆला दिया गया हॆ- पत्रिकाओं से पुस्तकों तक, संस्थाओं से विश्वविद्यालयों तक - कि जब भी दिमाग में उभरें तो वही प्रचारित-प्रसारित गिने-चुने नाम ही उभरें । शेष उपेक्षित रहे रहें । संयोग से यदि ऎसे उपेक्षितों में से किसी का नाम प्रस्तावित भी कर दे तो उस ऒर उसकी समझ पर टूट पड़ों ताकि वह भी उनके ही सुर में अलापने को बाध्य हो जाए । लेकिन कुछ अपवाद भी होते हॆं । वे बेशर्म होकर डटे रहते हॆं ऒर सहते हॆं । आप सर्वे कराएं, भाइयों के पास आगामी कितने ही वर्षों के लिए पुरस्कार प्राप्त करने वालों की सूची मिल जाएगी । संयोग से सूची का नाम सफल नहीं होता तो वे ही सिर पर आसमान उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगे । कॆलाश वाजपेयी को बधाई ।
अच्छा एक प्रश्न चलते चलते -मनोरंजन के लिए -कितने लोग होंगे जिन्हें दिविक रमेश का नाम भी मालूम होगा ? बाकी सब तो छोड़िये ।
नव वर्ष की शुभकामनाऒं के साथ,
आप ही का
दिविक रमॆश

3 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दिविक जी,
    मैं आपकी बातों से पूरी तरह सहमत हूं। साहित्य के पुरस्कारों की हालत वाकयी इस समय सत्य नारायण की कथा का प्रसाद (पंजीरी)बन चुका है।इसमें भी मैनें कई नामी गिरामी लोगों को पुरस्कार के लिये मठाधीशों के पांव पूजने से लेकर पूरी गुलामी करते(थैला ढोते,रिजर्वेशन कराते,सोमरस में नहलाते)भी देखा है। हिन्दी साहित्य के लिये यह बहुत चिन्तन और मनन का समय है----
    नववर्ष की शुभकामनाओं के साथ।
    हेमन्त कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  2. विचारणीय!!



    नव वर्ष की बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी बात सही है. गुटबंदी और अवसरवाद ने हमें कहीं का नहीं छोड़ा है.

    उत्तर देंहटाएं