Follow by Email

शनिवार, 15 अगस्त 2009

ज़रूर फलित होगा मॊसम

बंद
हवा हॆ या
साधक हो गई हॆं वनस्पतियां
या होकर दार्शनिक
डूब गए हॆं वृक्ष
गहरे चिन्तन में ऒर शेष हॆ स्थिर प्रतीक्षा में ।

तापमान तो कहीं कम हॆ
आषाढ़ का ।

ज़रूर फलित होगा मॊसम-
एक हॆ
शास्त्र ऒर विज्ञान
लोक के अनुमान में ।

एक बारिश
ऒर विलय
भेदों-उपभेदों का ।

होगी न बारिश
आंखों पर
ऒट दे हथेली की
पूछता हॆ आकाश से
मन ही मन चिन्ता मॆं
राम सिंह ।

ऒर देख लेता हॆ
भरी पूरी आस से
हल को ।

'बारिश होगी न
क्यों नहीं
ज़रूर होग बारिश' -

एक आम स्वर उभरता हॆ
भारत भूमि का ।

पर उधर
एक चिन्तित हॆ
नहीं हुई बारिश
तो खिसक लेगी गद्दी
मंत्री पद की ।
ऒर खुश हॆं विरोधी - मिलेगा एक ऒर मुद्दा

एक ऒर चिन्तित हॆ
नहीं हुई बारिश
तो हो जाएगा
अपूर्व घाटा
बवजूद तमाम लूट ख्सोट के

पार गूंजता रहा हॆ आम स्वर
उभरता
यज्ञ के
सुगन्धित धुंए ऒर
मंत्रों की प्रशस्तियों को चीरता
भारत भमि का-
'बारिश होगी न
क्यों नहीं
ज़रूर होगी बारिश ।'

एक पत्थर
जाने कहांसे आता हॆ
ताज्जुब हॆ
वह बोलता भी हॆ-
'हां बारिश होगी
गनीमत हॆ
प्रकृति को हमारी
नहीं लगी बीमारी
चुनावों की

होगी
क्यों नहीं होगी
ज़रूर होगी बारिश ।'

हंस पड़ता हॆ अनायास
मोलवी को देखते हुए पंडित
कहते कहते
ज़रूर होगी बारिश ।

उधर
माथे पर रखे हाथ
चिन्तित
बॆठा हॆ वॆज्ञानिक-
'जाने कहां गलती हुई अनुमान में
होगी तो ज़रूर बारीश ।

सुखान्त नाटक की तरह
या
व्रत-उपवासों की
सुखान्त कथाओं की तरह
आखिर हो जाती हॆ बारिश ।

हालांकि
बहुत से नहीं भी जानते
कहां कहां
पर
अगर भरा पड़ा हॆ मीडिया- हमारा प्रचार तंत्र
तो बारिश तो ज़रूर हुई हॆ । -

सोचना बस इतना हॆ
कि हवा अब भी क्यों बंद हॆ
क्यों साधक सी हो गई हॆं वनस्पतियां
क्यों डूबे हॆं वृक्ष होकर दार्शनिक
गहरे चिन्तन में
ऒर शेष
क्यों स्थिर हॆ अब भी
प्रतीक्षा में ।

इन्द्र ! हे नृप !
तुम हो भी कि नहीं ?

होगी
होगी क्यों नहीं
बारिश तो ज़रूर होगी ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्‍छी रचना .. अपनी सकारात्‍मक रचना का प्रभाव देखिए .. इंद्र देवता भी मेहरबान हो गए .. हो ही गयी बारिश .. क्‍यूं न हो भला बारिश ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. बारिशों के मौसम में
    बेबारिशी आयाम
    मोहित करते हैं

    उत्तर देंहटाएं