Follow by Email

सोमवार, 1 जून 2009

गेहूं घर आया है (कविता संग्रह )

मित्रों !
मेरी कविताओं का संग्रह 'गेहूं घर आया है ' अब प्रकाशित है प्रकाशक है - किताबघरप्रकाशन , ४८५५-५६/२४, अंसारी रोड दरियागंज ,दिल्ली -110002 १३२ पृष्ठों के संग्रह का मूल्य १७५ रु है प्रथम संस्करण -२०००९ .

3 टिप्‍पणियां:

  1. बधाई संग्रह के लिए
    और
    गेहूं घर आ जाये
    इस संभावना के लिये
    पर इससे खुशी होगी
    या पैदा होंगे गम।

    गेहूं स्‍वयं घर आ गया
    तो किसान का क्‍या होगा
    वो तो परेशान ही होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. नए कविता संग्रह के लिए बधाई हो रमेश ,मेरी प्रति कहां है

    उत्तर देंहटाएं