Follow by Email

रविवार, 7 अक्तूबर 2012

पुणे प्रवास

मित्रो! इस बार का पुणे प्रवास (28 सितम्बर से 5 अक्तूबर) सुखद तो रहा ही लेकिन विशिष्ट भी। वह कहते हॆं न एक पंथ दो काज । वही हुआ। गया तो था बेटे के घर जो हमेशा की तरह सुखद होना ही था लेकिन जो विशिष्ट हुआ उसी को सांझा करना चाहता हूं ।सुखद तो रहा ही लेकिन विशिष्ट भी। वह कहते हॆं न एक पंथ दो काज । वही हुआ। गया तो था बेटे के घर जो हमेशा की तरह सुखद होना ही था लेकिन जो विशिष्ट हुआ उसी को सांझा करना चाहता हूं । मराठी के सुप्रसिद्ध कवि हेमन्त जोगलेकर (हेमन्त गोविन्द जोगलेकर) पुणे में ही फर्गुशन रोड पर "वॆशाली" रेस्तोरेंट के निकट रहते हॆं। उनका फोन सम्पर्क मुझे मेरे मित्र ऒर वरिष्ठ कवि-लेखक श्याम विमल ने दिया था । सो हेमन्त जी से फोन पर बात हुई तो उनसे उनके घर पर मिलना निश्चित हो गया 3 अक्टूबर को दोपहर में। उनके घर पहुंचा तो बहुत ही सात्विक, सहज ऒर पवित्र सा स्वागत मेरे लिए किसी अचरज से कम न था। सफेद कुर्ते-पाजामें मे हेमन्त जी ऒर स्वाभाविक आकर्षणमयी सहज भावों से समृद्ध उनकी पत्नी संत सुलभ मुस्कान के साथ द्वार पर उपस्थित थे। एक घन्टे से ऊपर मॆं उनके साथ रहा । हिन्दी कविता ऒर मराठी साहित्य के परिदृष्य पर चर्चा होती रही। हिन्दी के कुछ रचनाकारों के नामों से हेमन्त जी परिचित थे- जॆसे भारत भवन के दिनों के अशोक बाजपेयी, कुमार अंबुज ऒर तेजी ग्रोवर । मेरे नाम से वे परिचित नहीं थे। लेकिन उनकी जिज्ञासा आदरणीय थी। मॆंने अशोक वाजपेयी जी के द्वारा चुनी हुई मेरी कविताओं का संग्रह ’गेहूं घर आया हॆ’ की प्रति उन्हें भेंट की ऒर उन्होंने अपनी अंग्रेजी में अनूदित कविताओं के संग्रह BOATS की प्रति भेंट की। पता चला उनकी पत्नी अंग्रजी - मराठी-अंग्रजी में अनुवाद के काम में संल्गन हॆं। मुझे अफसोस था कि मॆं मराठी नहीं पढ़-समझ सकता। हीन भावना भी आई क्योंकि हेमन्त जी के लिए हिन्दी में पढ़ना-समझना कोई समस्या ही नहीं थी। मॆंने अपना विचार ज़रूर व्यक्त किया )जिस पर सबकी सहमति से सुख भी मिला) कि आज भारतीय भाषाओं में उनके साहित्य का अधिक से अधिक अनुवाद होना चाहिए । ऒर यह भी कि विदेशों के संदर्भ में समस्त भारतीय साहित्य हिन्दी में उपल्ब्ध कराया जाना चाहिए न कि अंग्रजी पर निर्भर होना चाहिए। विदा अगली भेंट में कविताओं के सुनने-सुनाने के वायदे से हुई। हां हेमन्त जी ने बताया था कि वे व्यंग्य भी लिखते हॆं। लेकिन फूहड़ हास्य वाली कविताओं के वे भी मेरी ही तरह समर्थक नहीं हॆं। हेमन्त जी की अंगेजी में अनूदित कविताएं उलटते-पुलटते एक कविता पर ध्यान गया जिसका शीर्षक हॆ-Why do you smile?

उसीका मेरे द्वारा हो गया हिन्दी अनुवाद यहां प्रस्तुत हॆ:



तुम क्यों मुस्कराई?



रात में सोती हो तुम मेरे साथ

सुबह बाती हो मेरे लिए ब्रेकफास्॥

मेरे जाने के बाद कार्यालय

भेजती हो मेरे लिए दोपहर का भोजन।



शाम को ले जाता हूं तुम्हें सॆर पर

बिना नागा।

अगर मिल गया कोई दोस्त

तो कराया परिचय,

"ये मेरी पत्नी हॆं, मिलो."

तुम मुस्कुरा दीं।



तुम क्यों मुस्कुराई?

सच सच बताओ, तुम क्यों मुस्कुराई?

*****

दूसरा विशिष्ट अनुभव अगली बार.....









कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें